कलेक्टर कैसे बने हिंदी में Collector Kaise Bane How To Become a District Collector

0
159
Collector Kaise Bane How To Become a District Collector
Collector Kaise Bane How To Become a District Collector
WhatsApp चैनल में अभी जुड़े !
Telegram ग्रुप में अभी जुड़े !

Collector Kaise Bane? :- कलेक्टर को एक जिले की पूरी जिम्मेदारी सौंपी जाती है | इसलिए वह जिले का सबसे बड़ा प्रशासनिक अधिकारी होता है | कलेक्टर को किसी जिले के हर छोटे-बड़े सभी कार्य करने होते है जैसे – आपदा प्रबंध, सरकारी योजनायों को लागू करवाना, ऋण वितरण, कर्ज वसूली, कर वसूली, भूमि अधिग्रहण, भूमि मूल्यांकन, आम जानता की समस्या का समाधान करके उसका हल निकालना आदि सभी कार्य करने होते हैं इसके अतिरिक्त एक कलेक्टर को मुख्य कार्य कानून व्यवस्था को बनाये रखना एवं जिले की जानकारी सरकार तक पहुंचाने के काम की भी जिम्मेदारी सौंपी जाती है |

Table of Contents

Collector Kaise Bane?

यदि आप भी कलेक्टर बनना चाहते है तो, यहाँ पर आपको कलेक्टर (Collector) कैसे बनें, योग्यता, परीक्षा पैटर्न, सैलरी, कार्य की विस्तृत जानकारी प्रदान की जा रही है l

कलेक्टर कैसे बने ? How To Become a District Collector

कलेक्टर एक बड़ा पद होता है, जिसे प्राप्त करने के लिए कड़ी से कड़ी मेहनत करनी होती है क्योंकि, कलेक्टर बनने के लिए आपको सिविल सर्विस एग्जाम (CSE) देना होता है | इस परीक्षा का आयोजन यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) द्वारा किया जाता है | आप इस परीक्षा के लिए ग्रेजुएशन पूरा होने के बाद आवेदन कर सकते है लेकिन, आप इस  परीक्षा में पास होने के लिए ग्रेजुएशन के साथ ही यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दें ताकि आप आसानी से इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सके |

कलेक्टर परीक्षा पैटर्न

अभ्यर्थियों को इस पद के लिए तीन परीक्षाएं देनी रहती है, जो इस प्रकार है –

  1. प्रारंभिक परीक्षा – (Preliminary Exam)
  2. मुख्य परीक्षा – (Main Exam)
  3. साक्षात्कार – (Interview)

Also Read: upsc ias Syllabus

कलेक्टर प्रारंभिक परीक्षा 

इस परीक्षा का आयोजन जून – जुलाई और अगस्त महीने के बीच किया जाता हैं | इस परीक्षा में अभ्यर्थियों को 2 पेपर देने होते हैं पहला सामान्य अध्यन तथा दूसरा सिविल सर्विसेज एप्टीट्यूड टेस्ट कराया जाता है | ये दोनों पेपर 250-250 अंकों के होते हैं | जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर लेते हैं उन्हें मुख्य परीक्षा में शामिल कर लिया जाता हैं |

कलेक्टर मुख्य परीक्षा 

इस परीक्षा का आयोजन दिसंबर से जनवरी के बीच किया जाता है |

कलेक्टर साक्षात्कार 

मुख्य परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है, साक्षात्कार कुल 750 अंकों का कराया जाता है | इसके बाद जो अभ्यर्थी इन तीनो परीक्षाओं में सफलता प्राप्त कर लेते है, तो उन्हें इस पद के लिए नियुक्त कर लिया जाता है |

इसे भी पढ़ें: लेखपाल कैसे बने? Lekhpal kaise bane पूरी जानकारी How to Become Lekhpal

कलेक्टर योग्यता  

कलेक्टर बनने के लिए अभ्यर्थी को कम से कम ग्रेजुएशन (स्नातक) होना अनिवार्य है |

कलेक्टर आयु सीमा 

  • सामान्य श्रेणी (General) – 21 से 32 वर्ष
  • अन्य पिछड़ी जाति (OBC) – 21- 32 वर्ष (तीन साल की छूट =35 वर्ष)
  • अनुसूचित जाति/जनजाति (SC/ST) – 32 वर्ष (पांच साल की छूट =37 वर्ष)

इसके अतिरिक्त विकलांग और सेवा-निवृत सैनिक या कर्मी को भी UPSC के नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है |

कलेक्टर सैलरी 

एक कलेक्टर को प्रतिमाह ढाई लाख रूपये तक सैलरी के साथ बहुत प्रकार के भत्ते व सरकारी सुविधाए प्रदान की जाती है | अधिक जानकारी के लिए आप आईएएस के बारे में हमारा लेख पढ़े |

कलेक्टर के कार्य

  • कलेक्टर किसी जिले का मुख्य कार्यकारी, प्रशासनिक और राजस्व अधिकारी होता है। कलेक्टर का प्रमुख कार्य जिले में कार्य कर रहीं विभिन्न सरकारी एजेंसियों के मध्य आवश्यक समन्वय की स्थापना करना होता है |
  • कलेक्टर प्रमुख रूप से सामान्य प्रशासन का निरीक्षण करता है, भूमि राजस्व की वसूली करता है और जिले में कानून-व्यवस्था का निरीक्षण करता है।
  • एक कलेक्टर को पुलिस और जिले के अधीनस्थ न्यायालयों का निरीक्षण करने का काम सौंपा जाता है। इसके साथ ही वह सभी लोगों को न्याय दिलाने का भी काम करता है |

कलेक्टर का प्रमुख दायित्व 

  • कलेक्टर भूमि का मूल्यांकन करता है |
  • भूमि अधिग्रहण करने का काम करता है |
  • भूमि राजस्व का संग्रहण, भूमि रिकार्डों का रख-रखाव, भूमि सुधार व जोतों का एकीकरण कराता है |
  • बकाया आयकर, उत्पाद शुल्क, सिंचाई बकाया को वसूलने का काम करता है |
  • बाढ़, सूखा और महामारी जैसी प्राकृतिक आपदाओं से बचाने का काम करता है |
  • बाह्य आक्रमण और दंगों के समय सुरक्षा प्रदान करता है |
  • कृषि ऋण का वितरण करता है |
  • जिला बैंकर समन्वय समिति का अध्यक्षता करने का काम करता है |
  • जिला योजना केंद्र की अध्यक्षता करता है |

जिला मजिस्ट्रेट के कर्तव्य  

  • कलेक्टर कानून व्यवस्था की स्थापना करने का काम करता है |
  • वह अधीनस्थ कार्यकारी मजिस्ट्रेटों का भी निरीक्षण करने की जिम्मेदारी निभाता है |
  • अपराध प्रक्रिया संहिता के निवारक खंड से सम्बंधित मुकदमों की सुनवाई करने में भूमिका निभाता है |
  • Jila Collector सरकार को वार्षिक अपराध प्रतिवेदन प्रस्तुत करता है |
  • पुलिस और जेलों का निरीक्षण करता है |
  • सभी मसलों से मंडल आयुक्त को अवगत कराने का काम करता है |
  • मृत्यु दंड के कार्यान्वयन को प्रमाणित करने का काम करता है |
  • एक कलेकटर ही ऐसा होता है जो मंडल आयुक्त की अनुपस्थिति में जिला विकास प्राधिकरण के पदेन अध्यक्ष के रूप में कार्य करने में अहम भूमिका निभाता है |

इसे भी पढ़ें: How to wake up and study | सुबह जल्दी उठकर पढ़ाई कैसे करे?

यहाँ पर हमने आपको कलेक्टर बनने की सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आपको इससे सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप SenaBharti.in पर विजिट कर सकते है | इसके साथ ही यदि आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है | हम आपके प्रश्नो और सुझावों का इन्तजार कर रहें है |

Tags: How To Become a District Collector Kaise Bane District Collector banane ke liye kya kare District Collector Kaise Bane? कलेक्टर कैसे बने – कलेक्टर बनने के लिए क्या करे जानिए हिंदी में कलेक्टर कैसे बने और इसके लिए क्या पढाई करें? District Collector कैसे बने व जिला कलेक्टर बनने के लिए क्या करें? कलेक्टर बनने के लिए कितनी उम्र चाहिए Collector banne ke liye subject डिप्टी कलेक्टर कैसे बने कलेक्टर का काम क्या होता है?

कलेक्टर की सैलरी १२वीं के बाद कलेक्टर कैसे बने कलेक्टर बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें कलेक्टर की पढ़ाई में कितना पैसा लगता है कलेक्टर (Collector) कैसे बनें Collector Kaise Bane How To Become a District Collector Collector kaise bane puri jankari in hindi कलेक्टर कैसे बने District Collector Kaise Bane? Collector Kaise Bane How To Become a District Collector Collector kaise bane puri jankari in hindi कलेक्टर कैसे बने District Collector Kaise Bane?

FAQ – Collector kaise bane puri jankari in hindi

Q. कलेक्टर का कोर्स कितने साल का होता है?

Ans. इसकी परीक्षा एक साल मे‌ एक बार करवाई जाती हैं। परीक्षा में पास होने के बाद साक्षात्कार और रैंक के बाद चुना जाता है, कलेक्टर को IAS लेवल का अधिकारी होता है.

Q. जिला कलेक्टर बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करनी चाहिए?

Ans. जिला अधिकारी या डीसी बनने के लिए सबसे पहले आपको ग्रेजुएशन पास करना होगा. स्नातक पास करने के बाद UPSC द्वारा संचालित होने वाली Civil Service Exam के लिए आवेदन करें. सिविल सेवा परीक्षा के लिए प्रति वर्ष UPSC (CSE) Exam Form निकालती है. CSE परीक्षा फॉर्म को भरे.

Q. कलेक्टर के एग्जाम में क्या क्या आता है?

Ans. Collector Syllabus In Hindi: यह कलेक्टर बनने के लिए प्रारंभिक परीक्षा होती है जिसमें दो पेपर होते है पहला सामान्य अध्ययन का और दूसरा Civil Service Aptitude Test का। इन दोनों पेपर में 200-200 अंकों के वैकल्पिक प्रश्न होते है। इस Exam को पास करने के बाद आपको मुख्य परीक्षा (Main Exam) देनी होती है।

Q. कलेक्टर बनने के लिए 11वीं में कौन सा सब्जेक्ट ले?

Ans. Arts से IAS बन सकते हैं।
आईएएस की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए यह विषय सबसे अच्छा विषय होता है। अगर आपकी रूचि इतिहास भूगोल जैसे विषय में है तो आप अपनी 12वीं और ग्यारहवीं की पढ़ाई कला विषय से ही करें इससे आपको आईएएस की तैयारी करने में बहुत ज्यादा मदद मिलेगी।

Q. कलेक्टर की पढ़ाई को क्या कहते हैं?

Ans. यदि आप कलेक्टर बनना चाहते है तो सबसे पहले आपको अपना ग्रजुशन पूरा करना होगा, उसके बाद आपको आल इंडिया सर्विस (All India Civil Service Exam) जिसे शार्ट में CSE कहते है, यह परीक्षा देनी होगी, यह परीक्षा साल में सिर्फ एक ही बार होती है, इसका संचालन यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन (UPSC) करता है.

Q. कलेक्टर से बड़ा कौन होता है?

Ans. तहसीलदार / नायब तहसीलदार तहसीलदार और नायब तहसीलदार, राजस्व प्रशासन के प्रमुख अधिकारी और सहायक कलेक्टर के दूसरे स्तर की व्यायाम शक्तियां हैं। विभाजन के मामलों का निर्णय करते समय; तहसीलदार सहायक कलेक्टर 1 ग्रेड की शक्तियों को मानता है।

Q. कलेक्टर बनने के लिए 10वीं के बाद क्या करें?

Ans. कोई डिग्री होनी चाहिए : दोस्तों कलेक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं पास करना होगा तो दोस्तों आपके लिए किसी भी ब्रांच में डिग्री होना बहुत जरूरी है। डिग्री होने के बाद ही आप कलेक्टर पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसलिए कलेक्टर बनने के लिए डिग्री बहुत जरूरी है।

Q. कलेक्टर की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

Ans. जिला Collector का मासिक वेतन : UPSC सिविल सेवा परीक्षा को पास करके IAS अधिकारी बनने वाले उम्मीदवारों को काफी बढ़िया सैलरी मिलती है, जो आईएएस अधिकारी डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर बनते हैं उनकी मासिक तनख्वाह लाखों रुपए तक भी जाती है। 7वें वेतन आयोग के अनुसार किसी भी आईएएस अधिकारी का मूल वेतन 56100 रुपये है।

Q. कलेक्टर बनने के लिए हाइट कितनी होनी चाहिए?

Ans. जिला मजिस्ट्रेट बनने के लिए आपकी हाइट कम से कम 5 फीट 6 इंच होनी चाहिए

Q. कलेक्टर को पद से कौन हटा सकता है?

Ans. सस्पेंड करने की शक्ति स्टेट कैबिनेट सेक्रेटरी (स्टेट कैबिनेट के सलाह पर) है।

Q. जिला अधिकारी बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

Ans. DM (District Magistrate) बनने के लिए उम्मीदवार को UPSC द्वारा आयोजित CSE (सिविल सर्विस एग्जाम) परीक्षा को पास करना होता है। इसके बाद आपका IAS के लिए चयन किया जाता है। इसके बाद आप IAS अधिकारी बनते है। तथा पदोन्नति होने पर IAS अधिकारी को जिला न्यायाधीश अथवा डीएम (जिलाधिकारी) बनाया जाता है।

Q. कलेक्टर कितने प्रकार के होते हैं?

Ans. जिला मजिस्ट्रेट या कलेक्टर के कार्य और दायित्वों को निम्न रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है:
1. कलेक्टर
2. जिला मजिस्ट्रेट
3. डिप्टी कमिश्नर
4. मुख्य प्रोटोकॉल अधिकारी
5. मुख्य विकास अधिकारी
6. निर्वाचन अधिकारी

Q. कलेक्टर बनने के लिए 12वीं के बाद क्या करें?

Ans. १२वीं के बाद सबसे पहले आपको अपनी ग्रेजुएशन किसी भी सब्जेक्ट से पूरी करनी होगी और उसके बाद आपको UPSC में IAS के लिए अप्लाई करना होगा। अगर आप IAS की परीक्षा को पास करते है तो आप IAS अधिकारी बन जायेंगे। IAS अधिकारी के कुछ समय बाद आपको पदोन्नति दे कर के जिला कलेक्टर बनाया जायेगा।

Q. कलेक्टर की कितनी पावर होती है?

Ans. दूसरे शब्दों में कहें तो कलेक्टर का काम कानून और व्यवस्था का पालन करवाना और विधायक का काम कानून बनाने का होता है । सामान्यतः एक जीते में एक कलेक्टर और 4(यु पी) से 10 (दिल्ली) विधायक होते हैं ।

Q. जिला कलेक्टर बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना पड़ता है?

Ans. प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी आप अपने स्नातक की पढाई के साथ भी कर सकते हैं. अपने पसंद के अनुसार विषय चुने और जिस भी भाषा में आप सुविधानुसार परीक्षा दे सकते हैं, दें. इसमें आपको 02 पेपर देना होता है: जनरल स्टडीज और एप्टीटुड – General Studies and Aptitude. यह दोनों हीं पेपर 02-02 घंटे के होते हैं.

Q. कलेक्टर की 1 महीने की तनखा कितनी होती है?

Ans. 7वें वेतनमान के अनुसार एक डीएम की सैलरी 1 लाख से 1.5 लाख रुपए प्रति महीने होती है। इसके अलावा इन्‍हें बंगला, गाड़ी, सुरक्षा गार्ड, मेडिकल, फोन आदि की सुविधा भी मिलती है।

नवीनतम अपडेट के लिए जुड़ें:-

»जॉइन टेलीग्राम»Facebook ग्रुप
»Twitter ग्रुप»Linkedin ग्रुप
»Top Sena Bharti»Tumblr ग्रुप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here